बदलेँ अपनी कुछ आदतेँ एक सेहतमंद भविष्य के लिए

रखे अपने सेहत का ख्याल उपायों के साथ

लेखिका – डॉ धृती वत्स 

अच्छी सेहत जीवन में सबसे ज़रूरी हैं पर दुःख की बात यह हैं कि हम अक्सर इस बहुमूल्य ख़ज़ाने को नज़रअंदाज़ कर देते हैं। आज कल की भाग दौर भरी ज़िन्दगी में हम खुद को समय नहीं दे पाते हैं। इस लापरवाही का दुष्परिणाम हमे बाद में भोगना पड़ता हैं। जीवन की गुत्थियों में उलझे हम समय पर अपने सेहत पर ध्यान नहीं दे पाते हैं। 20-30 के आयुवर्ग के लोग रोजमर्या के तेज़ दौड़ में फसे रह जाते हैं और बाद में भुगतते हैं। अगर हम रोज़ के दिनचर्या की कुछ आदतों को बदले तो हमारे सेहत में बहुत फर्क आ सकता हैं।    

स्वस्थ्य रहना एक आदत नहीं बल्कि जीना का तरीका होना चाहिए। जितनी जल्दी हम अपनी बुरी आदतों को बदलेंगे उतना ही आसान होगा लंबा और सेहतमंद जीवन जीना। हमारा स्वास्थ्य हमारे हाथों में है। या तो हम इसे  बिगाड़लें  या फिर सुधारलें। स्वस्थ्य जीवनशैली मधुमेह, कोलेस्ट्रॉल, थायराइड की परेशानियां, अधिक वजन आदि जैसी जीवनशैली रोगों से बचाता हैं।

जीवन के बाद के चरणों में सेहतमंद रहने के लिए तैयारी आज ही करनी होगी। ऐसी ही कुछ  युक्तियों नीचे दी गयी हैं:

 

व्यायाम ही है आपका सच्चा साथी 

रोज़ शारीरिक व्यायाम करना चाहिए- यह बात हमने बचपन से सुनी है पर पालन करना भूल जाते हैं। व्यायाम के लाभ अनगिनत  हैं। यह आपके शरीर की मांसपेशियों को टोंड और लचीला रखने में मदद करता है। व्यायाम आपके दिमाग को भी आराम देता है और ऊर्जा को बढ़ाता है। व्यव्याम बहुत सारी शारीरिक परेशानियों से बचाता हैं और सेहतमंद जीवन जीने में मदद करता हैं। आजकल के दिनचर्या जिसमें एक जगह पर घंटों बैठकर काम करने से शरीर अनेक परेशानियों का घर बन जाता हैं। बहुत ज़रूरी हैं की रोज़ आप अपने लिए कम से कम ३० मिनट निकाले और अपने पसंद का व्यायाम करे। छोटे बदलाव जैसे की सीढ़ियों का इस्तेमाल करना, पास की जगह चल कर जाना, गाड़ी की जगह साइकिल से आना जाना, सुबह जल्दी उठना, दिन भर चलते फिरते रेहना जैसी छोटी छोटी चीजों से भी आपके सेहत पे बहुत फर्क पड़ता हैं।

 

स्वस्थ्य जीवन की परिभाषा- भोजन 

भोजन करना काफी नहीं हैं।  हम क्या, कब और कितना खाते हैं हमारी सेहत बनाता हैं। अच्छा भोजन स्वस्थ्य जीवन की परिभाषा हैं।  हम अक्सर भोजन का महत्व भूल जाते हैं और बाकि कामों में व्यस्थ होकर समय पर भोजन नहीं करते हैं। तला हुआ और बहार का भोजन शरीर का दुश्मन होता हैं। यह भोजन रसायनों के साथ संसोधित होते हैं जो शरीर को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचाते हैं।  

नियमित और सभी ज़रूरी तत्वों से भरपूर भोजन अनेक बिमारियों को दूर रखता हैं और मधुमेह के स्तर और कार्बोहाइड्रेट सीमित रखता हैं।बहुत ज़रूरी हैं भोजन सही समय पर किया जाये। सुबह की शुरुआत अच्छे नाश्ते से करे क्यूकि ब्रेकफास्ट आपको दिन भर के लिए ऊर्जा प्रदान करेगा। थोड़े थोड़े समय पर छोटे मात्रा में भोजन करे ताकि आप दिन भर भरा महसूस करे और कुछ गलत न खाये। 

 

बाहर निकलना न भूलें 

पर्याप्त धूप,  ताज़ी  हवा और  सूरज स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। हम सभी अपने जीवन में ऐसे मशगूल हो गए हैं की बाहर निकलने का समय ही नहीं मिलता जिसके वजह से ज्यादातर लोग विटामिन की कमी से ग्रस्थ है। बाहर निकलना शरीर और दिमाग को चुस्त और तंदरुस्त रखता हैं। 

 

अपनी नींद से करें प्यार  

शरीर को आराम की बेहद ज़रूरत होती हैं। काम के साथ साथ सही आराम भी हमारे अस्तित्व के लिए ज़रूरी होता हैं। सही आराम पुरे शरीर और दिमाग को तरोहताज़ा कर देता हैं और दूसरे दिन के काम के लिए एनर्जी से भर देता हैं। रोज़ 6-7 घंटे की नींद आवश्यक होती हैं। अपने सेहत के ज़्यादा ज़रूरी और कोई चीज़ नहीं होती हैं। यह बात हमें हमेशा अपने ज़ेहन में रखनी चाहिए और अपनी दिनचर्या उसी प्रकार जीनी चाहिए।   

 

समय पर कराएं जांच 

सही सेहत के लिए समय पर जांच बेहद ज़रूरी होता हैं। नियमित जांच करवाने से हमे अपने सेहत की सही जानकारी मिलती और सही समय पर बीमारी का भी पता चल जाता हैं। हमारी सेहत बहुत हद तक हमारे हाथ में होती हैं। नियमित मधुमेह, कोलेस्ट्रॉल, थाइरोइड की जांच करने से सेहत का सही मूल्यांकन और बिमारियों से बचाव होता हैं। 

आज ही खुद से अपने सेहत का ख्याल रखने का वादा करे। आपका स्वास्थ्य बहुमूल्य हैं उसे नज़रअंदाज़ न करे। 

 

जानिए अपनी सेहत बेहतर
 

This post has already been read 129 times!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *