क्या आप भी बाल झड़ने से परेशान है?

Hairfall causes - Healthians

लेखिका – डॉ. स्नेहल सिंह

बालों का झड़ना काफी आम है और विभिन्न कारणों से हो सकता है। यह डरावना व निराशाजनक हो सकता है। लेकिन सबसे अच्छी बात यह है कि यदि आपको इसका सही कारण पता है तो आप सही उपचार प्राप्त कर सकते हैं। बालों के झड़ने के अधिकांश कारण आपके स्वास्थ्य से संबंधित हैं, इसलिए आपको मूल कारण की पहचान करने की आवश्यकता है। समय पर चिकित्सीय सलाह और आवश्यक जांच बालों के झड़ने का इलाज करने में मदद कर सकती है।

बाल गिरने का कारण क्या है?

लोग अक्सर नहाते वक्त या कंघी करते समय अपने बालों के गिरने की शिकायत करते हैं। हालांकि यह उन लोगों के लिए एक दु:खद अनुभव हो सकता है जो इसके सामना हर रोज करते हैं। इसलिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि बालों के झड़ने का कारण क्या है। यहाँ सूचीबद्ध बाल झड़ने के संभावित कारण, बाल झड़ने के लक्षण और संबंधित परीक्षण हैं।

वंशानुगत बालों का झड़ना

यह बालों के झड़ने के सबसे सामान्य कारणों में से एक है जो आपके जीन के कारण होता है। वंशानुगत बालों के झड़ने में, आप अपने माता-पिता या भाई-बहनों को भी ऐसी ही समस्याों का सामना करते देख सकते हैं। महिलाओं में उम्र बढ़ने के साथ अक्सर बाल पतले हो जाने की सम्भावना रहती है। वहीँ पुरषो में खोपड़ी के कुछ क्षत्रों में बालो का झड़ना दिख सकता है जोकि उनके भाई और पिता की समान होता है। त्वचा विशेषयज्ञ इस स्थिति का भलीभांति अनुमान लगा सकते है। ब्लड टेस्ट की सहायता से बाल झड़ने के चिकित्सा कारण, ऑटोइम्यून स्थिति और बालों के झड़ने पैटर्न या गंजेपन की जांच की जा सकती है। कुछ मामलों में, निदान की पुष्टि करने के लिए एक खोपड़ी बायोप्सी की आवश्यकता भी हो सकती है।

 

Hair styling damage - Healthians

 

अत्यधिक स्टाइलिंग

क्या आपने अपने स्टाइलिंग उत्पादों के बारे में सोचा है? हां, वे भी हानिकारक होते हैं। इन दिनों युवा लोग कर्लिंग आइरन, हेयर प्रेसिंग, ब्लो ड्राईिंग, अत्यधिक स्टाइलिंग, हेयर कलरिंग आदि का इस्तेमाल करते हैं। इन प्रक्रियाओं में गर्मी और कई रसायनों का इस्तेमाल होता है जो आपके बालों को कमजोर करते हैं और बालो के झड़ने की वजह बनते हैं। जबकि यह पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए आम है, संवेदनशील त्वचा और खोपड़ी वाले लोग अधिक समस्याओं का अनुभव करते हैं। ऐसी स्थिति में बाल आसानी से टूटते है। सलाह के अनुसार जांच की जा सकती है, जिसमें एलर्जी परीक्षण भी शामिल हो सकते हैं।

 

स्कैल्प की त्वचा की स्थिति

त्वचा की स्थिति, रूसी और खोपड़ी के फंगल संक्रमण बालों के झड़ने के सामान्य कारण हैं। अस्वस्थ खोपड़ी वाले लोगों में भी अस्वस्थ, संवेदनशील त्वचा भी हो सकती है। सामान्य लक्षणों में खोपड़ी में खुजली शामिल है। अक्सर कन्धों पर रूसी गिर जाती है जोकि जो आसानी से ध्यान देने योग्य है। संक्रमण के प्रकार के आधार पर, खोपड़ी पर मोटे सफेद, पीले या लाल पैच देखे जा सकते हैं। स्कैल्प की त्वचा के संक्रमण को स्कैल्प परीक्षा के दौरान सामान्य रूप से देखा जा सकता है। हलाकि, स्कैल्प बीओप्सी से संक्रमण का सटीक पता लग सकता है।

 

हाइपोथायरायडिज्म

हाइपोथायरायडिज्म में, थायराइड हार्मोन कम होने से बालों के झड़ने सहित कई स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं, जो आमतौर पर महिलाओं में अधिक होती हैं। थायराइड हार्मोन मुख्य रूप से चयापचय को नियंत्रित करता है, कम हार्मोन बालों के विकास और त्वचा की गुणवत्ता को प्रभावित करता है। हाइपोथायरायडिज्म के कारण बालों के झड़ने के लक्षणों में भंगुर नाखून और त्वचा, आसानी से गिरते बाल और शुष्क त्वचा और बाल शामिल हैं। हाइपोथायरायडिज्म के अन्य लक्षणों में थकान, वजन बढ़ना, गैस्ट्रिक गड़बड़ी, कमजोर मांसपेशियां, अवसाद और एकाग्रता में कठिनाई शामिल हैं। हाइपरथायरायडिज्म (जिसमें थाइरोइड हार्मोन बढ़ जाता है) भी आपके बालो को प्रभावित कर सकता है। यह चयापचय में वृद्धि के कारण है, जो बालों के अत्यधिक पतले होने का कारण बन सकता है। किसी भी मामले में, थायरॉयड समस्याओं को रक्त परीक्षण के साथ पता लगाया जा सकता है, जिसे थायरॉयड प्रोफ़ाइल कहा जाता है, जो थायराइड हार्मोन के स्तर को मापता है। तदनुसार, आपका डॉक्टर उचित दवाएं लिख सकता है। एक बार जब थायराइड हार्मोन का स्तर नियंत्रित हो जाता है, तो थायराइड के कारण बालों के झड़ने में सुधार होने लगता है।

 

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया

आयरन की कमी से एनीमिया भी बालों के झड़ने का कारण बन सकता है। यह उन महिलाओं में अधिक पाया जाता है जिनमें मासिक धर्म संबंधी असामान्यताएं या लंबे समय तक आयरन की कमी होती है। आयरन पूरे शरीर में बेहतर रक्त परिसंचरण और ऑक्सीजन के लिए आवश्यक है। आयरन की कमी वाले एनीमिया के सामान्य लक्षण हैं कमजोरी, पीली त्वचा और आँखें, लगातार सिरदर्द, बेहोशी और बालों का झड़ना। यह रक्त परीक्षण के साथ हीमोग्लोबिन के स्तर और लाल रक्त कोशिकाओं के विवरण का पता पूर्ण रक्त गणना (सीबीसी) से लगाया जा सकता है।

 

Post pregnancy hair fall - Healthians

 

गर्भावस्था और स्तनपान

गर्भावस्था और स्तनपान एक ऐसा काल है जब कई महिलाओं को बाल झड़ने का अनुभव होता है। यह प्रसव के बाद हार्मोन परिवर्तन से भी प्रभावित होता है। लेकिन स्थिति ज्यादातर अस्थायी होती है और कुछ महीनों के बाद बालों का विकास शुरू हो जाता है। त्वचा और बालों के परीक्षण की सलाह दी जा सकती है। रक्त परीक्षण पोषण संबंधी कमियों का पता लगाने और अन्य स्थितियों का पता लगाने में मदद कर सकता है।

 

हार्मोनल असंतुलन

हार्मोनल असंतुलन महिलाओं में बालों के झड़ने का एक कारण है। हार्मोनल असंतुलन से संबंधित समस्याएं यौवन, वयस्कता और रजोनिवृत्ति के दौरान महिलाओं को प्रभावित करती हैं। महिलाओं को रजोनिवृत्ति के दौरान बालों के झड़ने का अनुभव होता है, साथ में हॉट फ्लैशेस, रात को पसीना, हथेलियों और पैरों में जलन और चिड़चिड़ापन बढ़ जाता है।  पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस) अनियमित पीरियड्स, चेहरे पर बालों का बढ़ना और प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित कर सकता हैं।  यह बालों के झड़ने का एक सामान्य कारण है और कुछ महिलाओं में त्वचा की अन्य समस्याओं में भी योगदान देता है। पुरुषों में भी, हार्मोनल असंतुलन विभिन्न कारणों से हो सकता है। पुरुष रजोनिवृत्ति, जिसे एंड्रोपॉज के रूप में जाना जाता है, टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के उत्पादन को कम करता है, जिससे बालों का झड़ना हो सकता है। रक्त परीक्षण हार्मोन के स्तर का पता लगा सकते हैं, जबकि स्कैन के साथ पीसीओएस की पुष्टि की जा सकती है।

 

गर्भावस्था और स्तनपान

गर्भावस्था और स्तनपान एक ऐसा काल है जब कई महिलाओं को बाल झड़ने का अनुभव होता है। यह प्रसव के बाद हार्मोन परिवर्तन से भी प्रभावित होता है। लेकिन स्थिति ज्यादातर अस्थायी होती है और कुछ महीनों के बाद बालों का विकास शुरू हो जाता है। त्वचा और बालों के परीक्षण की सलाह दी जा सकती है। रक्त परीक्षण पोषण संबंधी कमियों का पता लगाने और अन्य स्थितियों का पता लगाने में मदद कर सकता है।

 

विटामिन बी 12 की कमी

विटामिन बी 12 की कमी से बालों का झड़ना महिलाओं में अधिक प्रचलित हो सकता है। विटामिन बी 12 की कमी के लक्षणों में कमजोरी, ऊर्जा की कमी, हाथों और पैरों में झुनझुनी और बाल झड़ना शामिल हैं। विटामिन बी 12 के स्तर का पता रक्त परीक्षण के साथ लगाया जा सकता है।

 

तनाव भी बालों के झड़ने के लिए जाना जाता है। चोट या दुर्घटनाओं के बाद पोस्ट-ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर से जूझ रहे लोग बाल झड़ने अनुभव कर सकते है। संक्रमण या बीमारियों से उबरने के दौरान बालों का गिरना आम है। आपके बाल झड़ने का संबंध त्वचा की समस्याओं, स्व-प्रतिरक्षित विकारों, ग्रंथियों के विकारों और कुछ प्रकार की दवाओं या उपचारों से भी हो सकता है। सही कारण जानने के लिए चिकित्सीय राय लें। उचित जांच और उपचार आपके बालों के झड़ने को नियंत्रित कर सकते हैं।

सुंदरता के अलावा, आपके बाल आपके स्वास्थ्य के बारे में बहुत कुछ बोलते हैं। यदि आप अपने बालों से प्यार करते हैं, तो अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखना शुरू करें।

 

(इस आर्टिकल को इंग्लिश में पढ़ें)

This post has already been read 707 times!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *