महावरी – मिथक और तथ्य

Menstrual calendar - Healthians

लेखिका – डॉ. स्नेहल सिंह

माहवारी या पीरियड्स एक सामान्य घटना है लेकिन यह फिर भी इसे एक निषेध माना जाता है। बहुत से लोग इस शब्द को ही कहने से हिचकिचाते है। हमें इस बात का एहसास ही नहीं है कि हम वास्तव में महिलाओं के लिए बहुत सी बाधाओं को प्रोत्साहित कर रहे हैं। पीरियड्स और सैनिटरी पैड्स के बारे में बात करने वालों को कलंक और शर्म के अंधेरे कोनों में धकेल दिया जाता है। जो समाज महिलाओं के बिना अधूरा है, वह ही महिलाओं के साथ अलग व्यवहार करता है। 

हर लड़की को माहवारी होती है। यह बिलकुल प्राकर्तिक है और यौवन का हिस्सा है। आइए हम सब एक साथ मिलकर माहवारी से जुड़े सभी मिथको को समाप्त करे और सभी सवालों के जवाब का समाज से परिचय करवाएं।

 

Menstruation taboo - Healthians

माहवारी – एक तब्बू

मिथक

माहवारी को एक सामाजिक वर्जना माना जाता है। पुरुषों के साथ या उनकी उपस्थिति में इस बारे में बात करना या चर्चा करना ठीक नहीं माना जाता है।

तथ्य

माहवारी बहुत ही स्वाभाविक प्रक्रिया है यह वास्तव में स्वस्थ प्रजनन स्वास्थ्य का संकेत देता है। 15 वर्ष की आयु के बाद माहवारी में किसी भी देरी के लिए डॉक्टर के परामर्श की आवश्यकता है।

इसके बारे में चर्चा करने में कोई बुराई नहीं है, वास्तव में माहवारी के बारे में जागरूकता पैदा करना और इसके बारे में स्वतंत्र रूप से बात करना बहुत आवश्यक है। इस बारे में बात न करने और ज्ञान की कमी होने के कारण महिलाओ में संक्रमण, पीरियड्स के दौरान अनुचित सुरक्षा और महिलाओं में प्रजनन संबंधी अस्वस्थता का खतरा बढ़ जाता है। कई महिलाओं को माहवारी की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। उन्हें सही चिकित्सा और जांच की ज़रूरत होती है। साथ ही उन्हें सही ज्ञान की भी ज़रूरत होती है।

 

माहवारी – स्नान और खाना पकने पर पाबंदी 

मिथक

मासिक धर्म वाली महिलाएं अशुद्ध होती हैं और वे पानी, भोजन या अचार को दूषित करने में सक्षम होती हैं। इसलिए, महिलाओं को पीरियड्स के दौरान रसोई में प्रवेश करने, खाना पकाने या स्नान करने की अनुमति नहीं होती है।

तथ्य

21 वीं सदी में रहने के बावजूद महिलाओं को इस तरह के भेदभाव का सामना करना पड़ता है। महिलाएं वास्तव में पीरियड्स के दिनों में व्यक्तिगत स्वच्छता के उच्च मानकों को बनाए रखती हैं लेकिन फिर भी उन्हें इस डर से भोजन को छूने के लिए अयोग्य माना जाता है कि वे उसे दूषित कर सकतीं हैं। यह बिल्कुल असत्य है, माहवारी के दौरान महिलाएं हर किसी की तरह ही होती हैं और भोजन और पानी को दूषित करने की कोई बुरी जादुई शक्ति नहीं रखती हैं।

माहवारी के दौरान उचित सफाई की आवश्यकता होती है जो स्नान को ज़रूरी बनती है क्योंकि यह स्वच्छ रहने और संक्रमण को रोकने में मदद करता है। संक्रमण के जोखिम को कम करने और स्वस्थ रहने के लिए उचित और स्वच्छ माहवारी संरक्षण का उपयोग करना अधिक महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, इन दिनों तैराकी के शौकीनों के पास टैम्पोन जैसे कई विकल्प हैं, जो संदूषण के जोखिम को कम करता है।

 

माहवारी मिस करने का मतलब गर्भावस्था

मिथक

अगर आपके पीरियड्स मिस हुए है यानि आपको एक महीने पीरियड्स नहीं हुए है तो आप गर्भवती है।

तथ्य

जबकि यह सच है कि गर्भवती होने के बाद महिलाओं को पीरियड्स नहीं होते लेकिन यह हर बार जरूरी नहीं है। कई युवा लड़कियों में शुरुआती वर्षों के दौरान अनियमित पीरियड्स हो सकते हैं। हार्मोनल असंतुलन, बीमारियां, तनाव या पोषण संबंधी मुद्दे भी कुछ महिलाओ में पीरियड्स मिस होने की वजह बन सकते है।

मिस्ड या अनियमित माहवारी आधारभूत चिकित्सा समस्याओं के कारण भी हो सकती है। मेडिकल परीक्षण जो हार्मोन के स्तर को निर्धारित करते हैं, पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस), मधुमेह, थायराइड की समस्याओं या अन्य हार्मोनल समस्याओं का खतरा हो सकता है।

 

Physical activity during periods

माहवारी – शारीरिक गतिविधियों या खेल में भाग लेने पर पाबंदी 

मिथक

माहवारी वाली लड़कियों या महिलाओं को दुर्बल कहा जाता है और वे खेल में भाग नहीं ले सकती हैं। उन्हें अक्सर पीरियड्स के दौरान व्यायाम और शारीरिक गतिविधियों से बचने की सलाह दी जाती है।

तथ्य

माहवारी वाली महिलाएं बस एक सामान्य प्रक्रिया से गुजर रही हैं और महिलाओं के लिए हर महीने पीरियड्स के दौरान स्कूल, दफ्तरों से दूर रहना या अपनी दिनचर्या से दूर रहना व्यावहारिक रूप से असंभव है। खेलों में भाग लेना पूरी तरह से एक व्यक्ति की पसंद है और जो महिलाएं प्रबंधन कर सकती हैं, उन्हें इस तरह के मिथकों के कारण खुद को प्रतिबंधित नहीं करना चाहिए। थोड़ा व्यायाम वास्तव में लाभदायक हो सकता है।

हालांकि यह सच है कि कुछ महिलाओं को थकावट महसूस हो सकती है और पीरियड्स के दौरान पेट में दर्द हो सकता है लेकिन सभी के लिए समान अनुभव करना आवश्यक नहीं है। यदि आप थका हुआ महसूस करते हैं और पीरियड्स से संबंधित समस्याएं हैं, तो चिकित्सा सलाह लेना बेहतर है और उपचार विकल्पों की योजना बनाने के लिए आवश्यक चिकित्सा जांच करें। प्रासंगिक परीक्षणों के साथ एनीमिया और अन्य माहवारी समस्याओं के अपने जोखिम को जानें।

 

पीरियड्स के दौरान खट्टा, मसालेदार खाना न खाएं

मिथ

पीरियड्स के दौरान मसालेदार, खट्टे खाने से परहेज करना चाहिए, ऐसे खाद्य पदार्थों से स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं और पीरियड्स फ्लो में बाधा आती है।

तथ्य

अपनी पसंद के अनुसार सभी खाद्य पदार्थ लें, सुनिश्चित करें कि आप पर्याप्त मात्रा में पानी पीते हैं और अपनी पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए सही खाद्य पदार्थ खाते हैं। कुछ महिलाओं को मतली का अनुभव होता है, पीरियड्स के दौरान उल्टी होती है, जिस स्थिति में उचित आहार की योजना बनाई जा सकती है। जबकि प्रसंस्कृत, परिष्कृत, शर्करा और वसायुक्त खाद्य पदार्थों से बचना सबसे अच्छा है, विटामिन, खनिज, साबुत अनाज, अच्छे वसा और प्रोटीन से भरपूर आहार स्वास्थ्य के लिए अच्छा है।

 

माहवारी मिथक महिलाओं के लिए कई सामाजिक और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का कारण बन सकते है। समय बदल रहा है और पुरुष और महिला दोनों के लिए अवसर खुले हैं। यह समय है जब हम अपने आप को अनुचित सामाजिक कलंक से मुक्त करें।

This post has already been read 472 times!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *