परीक्षा के तनाव से बचें

Exam Stress

लेखिका – डॉ. स्नेहल सिंह

बोर्ड परीक्षाों में माता-पिता और छात्रों के लिए तनाव का स्तर बढ़ जाता है। छात्र अक्सर अच्छे अंक स्कोर न कर पाने की चिंता करते हैं जो अंततः उन्हें अपने सपनों के कॉलेज में प्रवेश पाने से रोकसकता है। कई बार, किसी विशेष विषय के कारण जो छात्र बहुत दबाव में आजाते है। खराब अंक स्कोर करने या असफल होने का डर उन्हें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने से रोकता है।

माता-पिता इस चरण के दौरान अपने बच्चों के लिए समर्थन प्रणाली के रूप में कार्य करते हैं। यह माता-पिता का काम है कि वे अपने बच्चों को परीक्षा के तनाव से निपटने के लिए मार्गदर्शन करें और बहुत सारी प्रेरणा प्रदान करें। उन्हें अपने बच्चे की जरूरतों को समझना चाहिए और उन्हें पूरा करने की कोशिशें करनी चाहिए।

छात्र अक्सर परीक्षा तनाव से निपटने के रस्ते खोजते है। कामकाजी माता-पिता अपने व्यस्त दिनचर्या के कारण अपना 100% समर्थन प्रदान करने में सक्षम नहीं हो पते हैं। आपकी मदद करने के लिए, यहां कुछ तरीके दिए गए हैं जो आपको परीक्षा के तनाव से निपटने में मदद कर सकते हैं।

 

परीक्षा के तनाव और चिंता से कैसे निपटें?

 

Deal with exam stress

अगर आपको खुद पर विश्वास है, तो परीक्षा के तनाव से निपटना कोई बड़ी बात नहीं है। आपको बस इतना करना है कि पहले से पूरी तैयारी रखें और सकारात्मक रहें। परिणामों की चिंता न करें। जब आप खुद पर भरोसा करते हैं तब और कुछ मायने नहीं रखता है। प्रदर्शन के बारे में चिंता न करें।

माता-पिता को यह समझना चाहिए कि लगातार अपने बच्चों को अच्छे अंकों के महत्व के बारे में याद दिलाना और उनकी उनके चचेरे भाइयों और दोस्तों के साथ तुलना करना केवल उन्हें उनकी क्षमताओं पर संदेह करने पर मजबूर करदेगा। लंबे समय में, यह अन्य बच्चों के साथ उनके संबंधों को भी खराब करेगा। हर बच्चा अपने आप में खास होता है। प्रत्येक बच्चे के लिए 99% स्कोर करना आवश्यक नहीं है।

 

परीक्षा के तनाव के लक्षण क्या हैं?

  • सिरदर्द और माइग्रेन
  • मांसपेशियों में तनाव और शरीर में दर्द
  • भूख में बदलाव
  • पेट में दर्द
  • कब्ज या लूज मोशन
  • सोने में कठिनाई
  • चिड़चिड़ापन और मनोदशा में वृद्धि
  • ध्यान केंद्रित करने में असमर्थता

 

ऐसे लक्षणों पर माता-पिता को लगातार ध्यान देना चाहिए। उथली सांस, पसीने से तर हाथ और तेज धड़कन तनाव के तीव्र लक्षण हैं। तनाव के ऐसे संकेतों से तुरंत निपटा जाना चाहिए। लंबे समय में, तनाव स्वास्थ्य को भी ख़राब कर सकता है। इसलिए माता-पिता को हमेशा चौकस रहना चाहिए और अपने बच्चों को हर तरह से प्रोत्साहित करना चाहिए।

 

Tips for students

छात्रों के लिए परीक्षा तनाव प्रबंधन युक्तियाँ

तनाव में रहने से कभी फायदा नहीं होता है। यह आपके प्रदर्शन को प्रभावित करेगा और आपको अपनी क्षमताओं पर संदेह करेने पर मजबूर कर देगा। जीवनशैली में छोटे-छोटे बदलाव और पूरी तैयारी आपको परीक्षा के तनाव से निपटने में बहुत मदद कर सकती है।

  • हमेशा पूरी तयारी रखें। परीक्षा के पैटर्न को जानें और पिछले वर्षों में पूछे जाने वाले प्रश्नों के प्रकार से अवगत रहें। यह आपको अधिक आत्मविश्वास देगा।
  • उपलब्ध संसाधनों का प्रभावी ढंग से उपयोग करें। यदि आपको अधिक सहायता की आवश्यकता है, तो अपने माता-पिता को बताएं। वे आपका मार्गदर्शन करेंगे।
  • संगति ही कुंजी है। नियमित रूप से अभ्यास और संशोधन करें। अपने अध्ययन कार्यक्रम का पालन करें।
  • यदि आप थका हुआ महसूस करते हैं, तो आराम करें। अपने आप को अधिक शारीरिक तनाव में न डालें क्योंकि यह आपके स्वास्थ्य को भी ख़राब कर सकता है।
  • परीक्षा हॉल से बाहर निकलने के बाद प्रश्न पत्र पर चर्चा करने से बचें। आप जो कर चुके हैं उसे बदल नहीं सकते है। इसके बजाय आप अगली परीक्षा पर ध्यान केंद्रित करें।

 

परीक्षा सिर्फ आपके कौशल को परखती है। जीवन भर, हमें किसी न किसी तरह से परखा जाता है। यह जानना कि तनाव के स्तर को कैसे प्रबंधित किया जाए, इससे न केवल आपको बोर्डों में बेहतर प्रदर्शन करने में मदद मिलेगी बल्कि यह आपको जीवन भर बेहतर प्रदर्शन करने में मदद करेगा।

 

(इस आर्टिकल को इंग्लिश में पढ़ें)

This post has already been read 377 times!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *