स्वाइन फ्लू के लक्षण

Swine Flu - Healthians

लेखिका – डॉ. स्नेहल सिंह

स्वाइन फ्लू (H1N1) एक वायरल संक्रमण है जिसने कुछ वर्षों एक महामारी का रूप ले लिया है। यह संक्रमण आसानी से साधारण फ्लू की तरह फैलता है और इसके लक्षण भी समान होते हैं, लेकिन कुछ मामलों में यह खतरनाक मोड़ ले सकता है। स्वाइन फ़्लू आमतौर पर फ़्लू सीज़न के दौरान फैलता है लेकिन इसके मामले अन्य सीज़न में भी रिपोर्ट किए जाते हैं। स्वाइन फ्लू के प्रभावी  उपचार उपलब्ध हैं। स्वाइन फ्लू के प्रसार और लक्षणों के बारे में जानना समय पर उपचार की तलाश में मदद कर सकता है।

 

H1N1 flu - Healthians

स्वाइन फ्लू फैलने के कारण

स्वाइन फ्लू संक्रमण H1N1 वायरस के कारण होता जिसे  H1N1 फ्लू भी कहा जाता है। हालांकि इसके आसपास का आम मिथक है कि यह सूअर का मांस खाने से फैलता है, लेकिन यह सच नहीं है। बल्कि, यह एक संक्रमित व्यक्ति से एक स्वस्थ व्यक्ति में फैलता है। जो लोग लगातार स्वाइन फ्लू से संक्रमित लोगों के संपर्क में हैं, वे अधिक खतरे में हैं। कम प्रतिरक्षा वाले लोग अधिक जोखिम में हैं। यह वायरस भीड़ वाले क्षेत्रों में और बड़े समूहों के साथ आसानी से फैलता है। इसलिए, स्वाइन फ्लू संभावित रूप से स्कूल, अस्पताल, स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों या अन्य स्थानों पर फैल सकता है जहां लोग निकट संपर्क में आते हैं।

स्वाइन फ्लू ड्रॉपलेट संक्रमण से फैलता है, जिसका अर्थ है कि वायरस संक्रमित व्यक्ति के बलगम या लार से फैलता है। एक संक्रमित व्यक्ति स्वाइन फ्लू को छींकने, खाँसने या संक्रमित स्राव से वस्तुओं को छूने से फैल सकता है। जब आप हवा में वायरस के कणों के संपर्क में आते हैं या जब आप ऐसी संक्रमित सतहों के संपर्क में आते हैं तो आप संक्रमण को पकड़ सकते हैं। आम उपयोग की साधारण वस्तुएं जैसे दरवाज़े के हैंडल, डेस्क, किताबें, नल, बर्तन आदि, प्रसार में योगदान कर सकते हैं।

 

जो लोग स्वाइन फ्लू के अधिक जोखिम में हैं, उनमें शामिल हैं:

  • छोटे बच्चे, बुज़ुर्ग और गर्भवती महिलाएं
  • कम प्रतिरक्षा वाले लोग
  • मधुमेह, हृदय रोग या अस्थमा से पीड़ित लोग

 

causes of swine flu - Healthians

स्वाइन फ्लू के लक्षण

आमतौर पर स्वाइन फ्लू के लक्षण दिखाने के लिए H1N1 वायरस के संपर्क में आने के बाद एक से तीन दिन लगते हैं। स्वाइन फ्लू आम फ्लू के समान लक्षण दिखाता है। स्वाइन फ्लू के सबसे सामान्य लक्षणों में गले में खराश, खांसी, छींक आना, नाक बहना और खुजली वाली आंखें शामिल हैं, जिसके साथ बुखार का होना या न होना ज़रूरी नहीं है। स्वाइन फ्लू से पीड़ित लोगों को सिरदर्द, शरीर में दर्द, जोड़ों में दर्द और थकान का अनुभव हो सकता है। कुछ लोगों में मतली, भूख में कमी, उल्टी या दस्त जैसे गैस्ट्रिक लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं।

 

ऐसे लक्षण जो स्वाइन फ्लू के बिगड़ने की ओर इशारा करते है, उनमें शामिल है:

  • चेस्ट कंजेस्शन
  • निमोनिया
  • श्वसन विफलता
  • मौजूदा बीमारियों, जैसे अस्थमा या दिल की बीमारियों का बढ़ना
  • बेहोशी
  • भ्रम
  • दौरे
  • तंत्रिका संबंधी समस्याएं

 

स्वाइन फ्लू के लिए नैदानिक परीक्षण

स्वाइन फ्लू के लक्षणों का मूल्यांकन करने के लिए रैपिड फ्लू टेस्ट किया जा सकता है। हालांकि, सबसे सटीक परीक्षण जो स्वाइन फ्लू के निदान में मदद करता है, वह है प्रयोगशाला में स्वाब परीक्षण। इसमें, नाक और गले के पीछे से एक स्वैब लिया जाता है, जो वायरस की उपस्थिति का पता लगाता है। उपयुक्त जांच, रक्त परीक्षण, छाती का एक्स-रे और अन्य जांच भी की जा सकती है।

This post has already been read 1216 times!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *