लिपिड प्रोफाइल: जाने बेहतर

समझें अपना लिपिड प्रोफाइल

लेखिका- डॉ. पूजा चौधरी 

लिपिड टेस्ट आखिर क्या हैं? लिपिड प्रोफाइल टेस्ट को करवाना आवश्यक क्यों हैं? यह टेस्ट हमारे सेहत के बारें में क्या बताता हैं? ऐसे और कई सवाल के जबाब हम अक्सर जानना चाहते हैं। आज के भागदौर भरी ज़िन्दगी में ज़्यादारतर लोग कोलेस्ट्रॉल की परेशानी से ग्रसित हैं। लिपिड टेस्ट हमें शरीर में कोलेस्ट्रॉल के लेवल को मापने और सेहत की सही जानकारी प्रदान करने में मदद करता हैं।

लिपिड्स हमारे शरीर के लिए अनिवार्य हैं और बहुत ज़रूरी भूमिका निभाता हैं। लिपिड जैविक अणुओं का एक समूह है जिसमें वसा, तेल और स्टेरॉयड शामिल होते हैं। लिपिड को हाइड्रोफोबिक अणुओं के रूप में भी जाना जाता हैं। कोलेस्ट्रॉल हमारे रक्त में मौजूद होते हैं और शरीर इसे ऊर्जा के रूप में उपयोग करता है।

यदि हमारे शरीर में लिपिड स्तर बहुत अधिक और असंतुलित हो जाते हैं, तो वह आर्टरीज में प्लाक बनाता हैं। यह रक्त प्रवाह में बाधा डाल सकता है और कार्डियोवैस्कुलर बीमारी और स्ट्रोक के जोखिम को भी बढ़ा सकता है। यदि आपका डॉक्टर या आप अपने कोलेस्ट्रॉल के बारे में चिंतित हैं, तो आपको लिपिड रक्त परीक्षण ज़रूर करवाएं।

 

लिपिड प्रोफाइल 

लिपिड परीक्षण लिपिड प्रोफाइल (कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स सहित) रक्त परीक्षण होता है। जो रक्त में फैटी पदार्थों की कुल मात्रा को मापने के लिए किया जाता है। यह परीक्षण कुल कोलेस्ट्रॉल, एच डी एल (अच्छा कोलेस्ट्रॉल), एल डी एल( बुरा कोलेस्ट्रॉल), और ट्राइग्लिसराइड्स को मापता है। आइयें इसके बारे में विस्तार से समझें।

 

कोलेस्ट्रॉल

खून में कोलेस्ट्रॉल का मात्रा अधिक होने से कई परेशानियां हो सकती हैं। यह आर्टरीज में प्लाक की परत बनाना और खून के बहाव में रूकावट पैदा करता है। कोलेस्ट्रॉल की बड़ी मात्रा दिल का दौरा या स्ट्रोक होने की संभावना बढ़ाती है। 200 मिलीग्राम प्रति डिकिलिटर (मिलीग्राम / डीएल) से कम कुल कोलेस्ट्रॉल वयस्कों के लिए सामान्य माना जाता है। 200 और 239 मिलीग्राम / डीएल के बीच के लेबल्स को सीमा रेखा माना जाता है और 240 मिलीग्राम / डीएल से ऊपर होना खतरे की घंटी हैं ।

 

एचडीएल

एचडीएल (उच्च घनत्व लिपोप्रोटीन) को “अच्छा” कोलेस्ट्रॉल भी कहा जाता है। यह आर्टरीज से अतिरिक्त जमा कोलेस्ट्रॉल को हटाने में मदद करता है। एचडीएल के उच्च स्तर कोरोनरी हृदय रोग की घटनाओं को कम कर सकते हैं। एचडीएल के स्तर को ऊपर रहना चाहिए। 40 मिलीग्राम / डीएल से कम होने पर दिल की बीमारी के जोखिम बढ़ जातें है। 41 मिलीग्राम / डीएल से 59 मिलीग्राम / डीएल तक को सीमा रेखा माना जाता है। जबकि 60 मिलीग्राम / डीएल या उच्चतर के एचडीएल स्तर वयस्कों के लिए आदर्श माना जाता है।

 

एलडीएल

एलडीएल  “खराब” कोलेस्ट्रॉल के रूप में जाना जाता है। यह ज्यादातर लिवर से शरीर के अन्य हिस्सों में वसा और थोड़ी  मात्रा में प्रोटीन पहुंचता है। एलडीएल ज़्यादा होने पर हृदय रोग विकसित होने की संभावनाओं बढ़ जाती है। ज़्यादा एल डी एल का स्तर निष्क्रियता, मोटापा, और टाइप II मधुमेह का परिणाम हो सकता है।

वयस्कों में एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का स्तर 100 मिलीग्राम / डीएल से कम होना चाहिए। बिना स्वास्थ्य समस्याओं वाले लोगों के लिए 100 से 129 मिलीग्राम / डीएल के स्तर स्वीकार्य हैं। 130 से 159 मिलीग्राम / डीएल की सीमा रेखा पर हैं और 160 से 18 9 मिलीग्राम / डीएल ज़्यादा होता हैं।

 

ट्राइग्लिसराइड्स

ट्राइग्लिसराइड्स की  रेंज 30 – 14 9 मिलीग्राम / डीएल है। सीमा रेखा के स्तर 150-200 मिलीग्राम / डीएल के बीच हैं। 200 मिलीग्राम / डीएल से अधिक स्तर उच्च माना जाता है। ज़्यादा एल डी एल कोलेस्ट्रॉल के साथ ट्राइग्लिसराइड ज़्यादा होने से हृदय रोग होने की संभावनाओं को बढ़ जाती  है।

 

वीएलडीएल

वीएलडीएल को एक प्रकार का खराब कोलेस्ट्रॉल माना जाता है जो आर्टरीज में कोलेस्ट्रॉल का निर्माण करती है। इसमें ट्राइग्लिसराइड्स की मात्रा ज़्यादा होती है। सामान्य वीएलडीएल स्तर 0 से 40 मिलीग्राम / डीएल तक हैं। वीएलडीएल को मापने का कोई तरीका नहीं है इसलिए आमतौर पर ट्राइग्लिसराइड्स के प्रतिशत से अनुमान लगाया जाता है।

 

एलडीएल / एचडीएल अनुपात

एलडीएल: एचडीएल अनुपात बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि एलडीएल दोनों एचडीएल कार्डियोवैस्कुलर जोखिम की भविष्यवाणी करने में महत्वपूर्ण हैं। इस अनुपात के लिए सीमा 5:1 से नीचे है।

 

कोलेस्ट्रॉल परीक्षण का महत्व

जाने अपने कोलेस्ट्रॉल लेवल्स

उम्र के साथ हृदय रोगों का जोखिम बढ़ जाता हैं। अपने कोलेस्ट्रॉल की जांच कराना महत्वपूर्ण है। एक लिपिड प्रोफाइल टेस्ट या कोलेस्ट्रॉल परीक्षण सलाह दी जाती है जब आप:

  • उच्च कोलेस्ट्रॉल या दिल के दौरे का पारिवारिक इतिहास है
  • अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त हैं
  • शारीरिक रूप से निष्क्रिय हैं
  • मधुमेह हैं
  • आमतौर पर उच्च वसा आहार कहतें हैं
  • सिगरेट पीटें हैं
  • 45 वर्ष से अधिक उम्र का व्यक्ति या 55 वर्ष से अधिक उम्र की महिला है के लिए हर ३ महीने पर टेस्ट करवाना अनिवार्य हैं

 

अपने कोलेस्ट्रॉल की जांच अवश्ये समय पर करवाएं और सेहतमंद जीवन व्यतीत करें।

जाने अपनी सेहत बेहतर
 

This post has already been read 2283 times!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *