30 की उम्र के बाद रखें अपनी सेहत का खास ख्याल

Health at 30s - Healthians

लेखिका – प्रेक्षा बुट्टन

जब आप 30 साल की उम्र तक पहुँचते हैं, तो आपके शरीर के अंदर बहुत सारे बदलाव होते हैं। आप उन्हें देखने में सक्षम नहीं हो सकते हैं, लेकिन आपको निश्चित रूप से उन्हें समझना होगा। यह वह समय है जब आपको अपने जीवन को स्वस्थ और खुशहाल बनाने के लिए अपने जीवन में स्वस्थ बदलाव लाने होंगे।

इन परिवर्तनों के पीछे कई कारण हो सकते हैं। लेकिन यहां कुछ चीजें हैं जो आपको बीमारियों से बचने और स्वस्थ जीवन जीने के लिए याद रखने की जरूरत है।

 

Mental health at 30s - Healthians

मानसिक स्वास्थ्य

इस उम्र में तनाव आम है। तनाव ही है जो हमें हमारे कार्य पूरा करने के लिए उत्साहित करता है। सम्भावना है की इसके बिना हम अपने कार्यो को नज़रअंदाज़ करने लगेंगे। लेकिन ध्यान देने वाली बात यह है की अगर तनाव ज़रूरत से ज़्यादा हो जाये तो यह हमारे मानसिक संतुलन को बिगड़ सकता है और यही मानसिक असंतुलन कई बिमारियों का कारण बनता है। इसलिए तनाव को नियंत्रित करना आना हमारे लिए बहुत ज़रूरी है। अपने तनाव को सीमित रखने के लिए आपको अपनी दिनचर्या में कुछ बदलाव लाने होंगे। आप अपने दिन की योजना बनाने से शुरुवात कर सकते है। इसके लिए आपको आपने सभी कार्यो की उनकी प्राथमिकता के अनुसार सूची बनानी होगी। इससे आप यह सुनिश्चित कर सकेंगे की आप कोई भी ज़रूरी काम भूल नहीं रहे है। ऐसा करने की आप अपना समय भी बचाएंगे। अपने परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताना भी आपको तनाव कम करने में मदद कर सकता है। आपने खानपान का ख्याल रखें। तली – भुनी और सेहत के लिए हानिकर खाद्य पदार्थो से दूर रहे। अपनी सेहत को बेहतरीन बनाये रखने के लिए हर रोज़ कम से कम 30  मिनट व्यायाम ज़रूर करें।

 

पोषण

30 की उम्र में आपको अपने खानपान पर अधिक ध्यान देने की ज़रुरत है। इस समय की गयी लापरवाही आपको आपके आने वाले जीवन में बीमार बना सकती है। इसलिए अपने आहार में सभी विटामिन, खनिज और पोषक तत्वों को शामिल करें। अपने आहार में विभिन्न प्रकार के फल और सब्जियां शामिल करें। सुनिश्चित करें कि आपके आहार में फाइबर की उच्च मात्रा शामिल है। प्रति दिन 8-10 गिलास पानी पीना न भूलें। आप पानी को स्वादिष्ट और अधिक सेहतमंद बनाने के लिए उसमें ताज़े फल डालकर डेटॉक्स वाटर बना सकते है। चिप्स जैसे स्नैक्स जो आपको बीमार बनाते है इनसे दूर रहे। बल्कि फल खाये क्युकी यह आपको सेहतमंद भी बनाएँगे और आपका पेट भी भरेंगे।

 

Weight management at 30s - Healthians

वजन

जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है चयापचय घटता जाता है जिसकी वजह से वज़न बड़ सकता हिअ। इस वज़न को कम करना किसी चुनौती से कम नहीं होता है। अधिक वजन और मोटापे के कारण मधुमेह, हृदय रोग, गठिया और विभिन्न प्रकार के कैंसर जैसी बीमारियों के बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए वज़न को नियंत्रित करना बहुत ज़रूरी है। इसके लिए सबसे प्रभावी तरीका है व्यायाम। ऐसे व्यायाम करे जो आपके लिए आरामदायक हो। योग, रनिंग, कार्डिओ, वेट ट्रेनिंग या HIIT – बहुत तरह के व्यायाम है जिनसे अलग अलग लाभ मिलते है। आप अपनी सेहत के अनुसार कोई भी प्रकार चुन सकते है। आपको बस इस बात का ध्यान रखना है की ऐसा कुछ न करे जिससे आपको किसी भी तरह का नुकसान हो। अपने शरीर को समझकर ही किसी प्रकार का व्यायाम करे।

 

हड्डीयां

इस उम्र में हड्डियों के स्वास्थ्य को बनाए रखने और बढ़ाने के लिए हर संभव प्रयास किया जाना चाहिए क्योंकि केवल स्वस्थ हड्डियां आपके शरीर का समर्थन कर सकती हैं और आपको स्वतंत्र रूप से घूमने की अनुमति दे सकती हैं। किसी भी प्रकार के संयुक्त दर्द हड्डी की ताकत में कमी का संकेत कर सकते हैं। डॉक्टर की सिफारिश के अनुसार विटामिन डी, विटामिन के और कैल्शियम युक्त स्वस्थ आहार का पालन करना चाहिए। अपने भोजन में डेयरी, हरी पत्तेदार सब्जियां, नट्स, मछली और अंडे जैसे खाद्य पदार्थ शामिल करें। यह आपको स्वस्थ हड्डियों के लिए सभी आवश्यक पोषक तत्व देगा। सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आना भी आवश्यक है। कम से कम 30 मिनट के लिए सुबह के सूरज में बैठे। यह विटामिन डी का सबसे अच्छा स्रोत है। वेट लिफ्टिंग, बैलेंस एक्सरसाइज और रेजिस्टेंस ट्रेनिंग जैसी फिजिकल ट्रेनिंग भी फायदेमंद है।

 

Kick the habit at 30s - Healthians

शराब और धूम्रपान

शराब पीने और धूम्रपान करने के कारण स्वास्थ्य को नुकसान होता है। गर्भावस्था के दौरान जटिलताय, विभिन्न प्रकार के कैंसर, हृदय रोग, गैस्ट्रिक समस्या और स्मृति हानि का जोखिम बड़ सकता हैं। लोग यह कहते हैं कि वे यह नियमित आधार पर नहीं करते हैं। इस तरह की आदतें आपके स्वास्थ्य को खराब करती है और आपके जीवन के कुछ साल आपसे दूर कर देंगी। एक दिन में इन आदतों को छोड़ना संभव नहीं है। अगर आपने निश्चय कर लिया है तो धीरे धीरे ही सही, इन आदतों को छोड़ने की कोशिशे करे। अपनी इच्छा शक्ति को बढ़ाये। अगर आपका फैसला अटल है तो आप ज़रूर कामयाब होंगे।

 

आत्म-देखभाल

अपना ख्याल रखना आपको स्वार्थी नहीं बनता है। आत्म-देखभाल गतिविधियों में वह कार्य शामिल होते हैं जो आपको खुश रहने में मदद करते हैं। यह आपको मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक रूप से अच्छा बनाते और आपको बिना किसी बाधा के अपने लक्ष्य को पूरा करने में सक्षम बनाते है। अपने दिन से 20-30 मिनट अपने लिए निकले। इस समय में वह काम करें जो आपको खुश करते है। जैसे की अगर आपको पढ़ना पसंद है तो आप कोई किताब पढ़ सकते है या दौड़ने पसंद है तो नज़दीकी पार्क में दौड़ के लिए जा सकते है। अगर आप कुछ नया सीखना चाहते है तो यह समय आप उस कार्य को भी सपर्पित कर सकते है। अपने परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताना भी आपको खुश रहने में मदद कर सकता है।

 

Health test at 30s - Healthians

स्वास्थ्य जांच

नियमित स्वास्थ्य जांच के महत्व पर लंबे समय से जोर दिया गया है। स्वास्थ्य जांच यह समझने में सहायता करती है कि हमारे अंग कितनी अच्छी तरह काम कर रहे हैं और उनकी देखभाल करने के लिए हमे क्या करने की ज़रूरत है। इसके अलावा कई बीमारियाँ जैसे विभिन्न प्रकार के कैंसर, हृदय रोग, गठिया, ग्लूकोमा, हंटिंगटन की बीमारी और कुछ एसटीडी के कोई लक्षण नहीं दिखती हैं। इस प्रकार यदि समय पर इसकी पहचान नहीं की गई तो यह एक जटिल मामला बन सकता है। इसलिए नियमित स्वास्थ्य जांच इस तरह की जटिलताओं को पहचानने में मदद करती है। चिकित्सक की सलहा के अनुसार आप अपनी जीवनशैली में सेहतमंद बदलाव ला सकते है और अपनी सेहत में सुधर कर सकते है।

 

अपने जीवन के इस पहलू को पूरी तरह जीए। सेहतमंद आदते अपनाये और बीमारियों से दूर रहे। ऊपर दिए गए बिन्दुओ को नज़रअंदाज़ न करे और अपने व् अपने प्रियजनों की अच्छी सेहत के किये कदम उठाये।

 

(इस आर्टिकल को इंग्लिश पढ़ें)

This post has already been read 479 times!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *