सर्दियों में शुष्क त्वचा से निपटने के 6 तरीके

Dry skin during winter - Healthians
लेखिका – प्रेक्षा बुट्टन 

दमकती चमकदार त्वचा कौन नहीं चाहता है? लेकिन हम सभी अपनी त्वचा की ज़रूरतों को नज़रअंदाज़ कर देते है। और बदलते मौसम में, खासतौर पर सर्दियों में, त्वचा शुष्क और खुजली वाली हो जाती है। अगर आप शुष्क त्वचा से जूझ रहे है तो सर्दियों में शुष्क त्वचा से निपटने के 6 तरीके आपके लिए मददगार हो सकते है। लेकिन पहले सर्दियों में त्वचा के शुष्क होने के कारणों को समझना ज़रूरी है। 

 

सर्दियों के दौरान शुष्क त्वचा के संभावित कारण क्या हैं?

हमारी त्वचा एक तैलीय पदार्थ उत्पन करती है जिसे सीबम कहा जाता है। यह त्वचा में नमी को बनाए रखने में मदद करता है। जब आपकी त्वचा में पर्याप्त सीबम नहीं होता है, तो यह नमी खोने लगती है और शुष्क हो जाती है। हालाँकि शुष्क त्वचा बहुत आम है लेकिन सर्दियों में हवा में नमी न होने के कारण त्वचा ज़्यादा शुष्क हो जाती है जिसकी वजह से आपको खुजली और दर्द हो सकता है। सर्दियों में त्वचा के शुष्क होने के यह कारण भी हो सकते है:

  • गर्म पानी और साबुन का अधिक प्रयोग 
  • तेज़ केमिकल वाले उत्पादों का उपयोग 
  • सोरायसिस या एक्जिमा जैसे रोग 
  • उम्र – क्यूंकि बढ़ती मुर के साथ त्वचा रूखी और पतली हो जाती है 

हालांकि कभी-कभी ऐसा भी हो सकता है कि आपकी त्वचा अचानक लाल हो जाए या उसमें खुजली होने लगे। यह एक एलर्जी के कारण हो सकता है। यदि आप इस बात को नोटिस करते हैं तो एलर्जी टेस्ट ज़रूर करवाएँ। 

 

शुष्क त्वचा से कैसे निपटे?

Use of soap - Healthians

साबुन का कम से कम उपयोग करें 

नहाते समय या हाथ धोने से लिए सुगन्धित साबुन इस्तेमाल करना हर किसी को पसंद है लेकिन यह आपकी त्वचा की नमी और कोमलता छीन लेता है। इसलिए माइल्ड बॉडीवॉश या हैंडवाश का इस्तमाल करें जो त्वचा पर ज़्यादा कठोर न हों। 

 

गर्म पानी से बचें 

सर्दियों में नहाने के लिए गर्म पानी का इस्तमाल किया जाता है लेकिन इसकी वजह से त्वचा रूखी होती है। इसलिए गुनगुने पानी का इस्तमाल किया जाना चाहिए। साइंटिस्ट्स का यह भी कहना है कि नहाने के लिए 10 मिनिट काफी है। नहा लेने के बाद खुद को नरम तौलिए से सुखाएं और उसी वक्त मॉइस्चराइजर लगाएं क्यूंकि तब त्वचा अधिक नमी को सोखती है। 

 

ह्यूमिडिफायर का प्रयोग करें

सर्दियों के दौरान हमारे आसपास की हवा में नमी की कमी होती है, इसलिए ह्यूमिडिफायर का उपयोग मददगार हो सकता है। वह हवा को नम बनता है जिससे रूखी हवा से होने वाले नुकसान को कम किया जा सकता है। यह नमी नाक में जलन, सूखी खासी, सिरदर्द और साइनस में भी आराम पहुंचाती है। इसलिए अपने कमरे में एक ह्यूमिडिफायर ज़रूर रखें। 

 

Moisturize during winters - Healthians

बार बार मॉइस्चराइज़ करें 

आपको सिर्फ अपने हाथ और चेहरे को ही नहीं बल्कि अपने पूरे शरीर को मॉइस्चराइज़ करने की ज़रूरत है। मार्किट में 4 प्रकार के मॉइस्चराइर्ज़ उपलब्ध है – ऑइंटमेंट (जैसे कि वैसलीन), तेल-आधारित मॉइस्चराइज़र (जैसे कि हाथों की क्रीम), और बॉडी लोशन। अपनी ज़रूरत के हिसाब से अपने लिए सही मॉइस्चराइज़र चुनें। 

 

कम से कम एक्सफोलिएट करें 

रूखी और शुष्क त्वचा को एक्सफोलिएट करने के उसे और नुकसान होगा क्यूंकि वह पहले से ही सेंसिटव हो रखी है। यदि आपको एक्सफोलिएट करने की सख्त ज़रूरत है तो ऐसा एक्सफ़ोलीएटिंग उत्पाद चुनें जो सॉफ्ट हो और जो त्वचा को ज़्यादा नुकसान नहीं पहुंचाएगा। 

 

किसी विशेषज्ञ की मदद लें 

यदि आपने कम से कम एक हफ्ते तक यह सरे तरीके अपना लिए है और फिर भी आपकी त्वचा रूखी और शुष्क है तो हो सकता है कि ऐसा किसी रोग की वजह से हो। कभी कभी थाइरोइड और एस्ट्रोजन के कम लेवल के कारण भी त्वचा पर असर होता है। इसलिए हॉर्मोन टेस्ट और थाइरोइड टेस्ट करवाएं। आप किसी स्किन स्पेशलिस्ट के पास भी जा सकते हैं और पूरी जांच करवा सकते हैं।

This post has already been read 941 times!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *